गेंदे के फूल की खेती से साल के 15 लाख कमाएं | Successfull Marigold Flower Farming From Village

Earn From Village : गेंदे के फूल की खेती से साल के 15 लाख कमाएं: Marigold Flower Farming, 

गेंदे के फूल (Gende ke Phool) की खेती से साल के 15 लाख कमाएं

गांव से आपका संबंध है तो आपके यहां खेती होना स्वाभाविक है, खेती का सीधा संबंध गांव से ही है। जहां पर गेहूं, धान, दलहन, तिलहन और सब्जियों की खेती होती है जो सामान्य सी बात लगती है। लेकिन क्या आपने कुछ अलग तरह की खेती के बारे में सोचा है ? आज हम अलग प्रकार की खेती के बारे में बात कर रहे हैं।

जैसा गेंदे के फूल की खेती से साल के 15 लाख कमाएं आखिर कैसे ? ये कैसे संभव है ? लेकिन मैं आपको ये बताऊंगा की गेंदे के फूल की खेती से कोई भी 15 लाख ही नही उससे भी बहुत ज्यादा पैसे कमा सकता है। आज के समय में तकनीकी, बीजों और उनके रख रखाव का ध्यान रख कर खेती से असीमित कमाई की जा सकती है।

गेंदे का फूलa

 

गांव में रहकर बिजनेस कर पैसे कैसे कमाए। जानिए

गेंदे के फूल की खेती कैसे करें:

इस फूल की खेती करना गेंहू की खेती करने जैसा ही आसान है, पहले गेंदे के फूल की खेती केवल सर्दी के मौसम में की जाती थी। लेकिन समय के साथ खेती करने के तौर तरीकों में भी बदलाव आना शुरू हो गए। आज गेंदे के फूल या किसी अन्य फूल की खेती भी पूरे साल की जाती है।

गेंदे के फूल की खेती के लिए क्या तरीका है।

इस खेती के लिए सबसे उपयुक्त दोमट मिट्टी है लेकिन इसकी खेती औसतन किसी भी अच्छी मिट्टी में की जा सकती है। खेत को कई बार जोत कर अच्छी तरह से भुरभुरा बना लिया जाता है।

तब 1 हेक्टेयर में पौधे लगाने के लिए सबसे पहले 1 किलो बीज से नर्सरी तैयार की जाती है। जब पौधे 6 से 8 इंच के हो जाए, तो इन्हे नर्सरी से निकाल कर लगभग 1 फीट के अनुपात की दूरी पर लगाने से वृद्धि काफी अच्छी होती है।

लगभग 40 दिनों में गेंदे के फूल के पौधे में पहली कली निकलती है, जिसे फूल आने के बाद 4 इंच नीचे से तोड़ा जाता है। जिससे पौधे में ज्यादा कलियां निकलने लगती है और पैदावार ज्यादा होने लगती है। फिर इन फूलों की तुड़ाई कर बाजार में भेजने की प्रक्रिया शुरू हो जाती है।

गेंदे के फूल से औषधीय लाभ :

गेंदे के फूल में विटामिन C प्रचुर मात्रा में उपलब्ध होता है। जिसका उपयोग दवाइयों को बनाने के काम में आता है। विटामिन C होने की वजह से गेंदे का फूल हमारे शरीर के लिए रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के काम में आता है।

घरेलू इलाज के तौर पर चोट लगने या घाव होने पर इसका लेप लगाने से दर्द भी कम होता है और घाव जल्दी भर जाता है। इसका रस पीने से त्वचा संबंधी विकार जैसे – कील मुहांसे, दाने, फूंसी से मुक्ति मिलती है। साथ ही इसका रस पीना हमारे हृदय और किडनी के लिए रामबाण साबित हो सकता है।

घरेलू महिलाओं के लिए घर से ही किए जाने कार्य

गेंदे के फूल की खेती में लागत और मुनाफा :

आप गेंदे के फूल की खेती कम खेत में भी कर सकते है, लेकिन मुनाफा भी उसी के हिसाब से कम होगा। इसलिए जितना ज्यादा हो सके उतना कीजिए क्योंकि इस खेती में नुकसान मात्र 10 से 15 प्रतिशत तक ही रहता है।

औसतन 1 हेक्टेयर गेंदे के फूल की खेती में आने वाला खर्च 40 हजार से 50 हजार तक हो सकता है। और मुनाफा 8 से 10 लाख रुपए प्रति हैक्टेयर की आमदनी हो सकती है। गेंदे के फूल की फसल 4.5 कुंटल प्रति हेक्टेयर साप्ताहिक औसत पैदावार होती है।

गेंदे के फूल का रेट आम दिनों में 70 से 80 रुपए प्रतिकिलो रहता है, लेकिन त्योहारों के मौसम में और शादियों के समय 100 रुपए प्रति किलो से भी ज्यादा पहुंच जाता है। आप इस फसल को साल में 4 बार लगा सकते हैं और 15 लाख रुपए बहुत ही आसानी से कमा सकते हैं।

गेंदे के फूल की खेती की सुरक्षा :

इस फसल को मुख्यतः सर्दी के समय पाले से और जानवरों से बचाना बेहद जरूरी होता है। क्योंकि अगर पाले साल असर हुआ तो पैदावार कम होगी। जिससे आपकी आय पर फर्क पड़ेगा। और जानवरों से बचाने के लिए कंटीले तारों या बाड़ का इस्तेमाल करना बेहद सुरक्षित रहेगा।

टी स्टाल बिजनेस से भरपूर पैसे कमाएं

जहां तक कीट पतंगों की बात है तो इसके बारे में नजदीकी कृषि अनुसंधान केंद्र या किसान केंद्र से दवाओं और उनके छिड़काव की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। फिर उन दवाओं का गेंदे की फसल पर नियमानुसार छिड़काव करें।

गेंदे के फूलो की अच्छी किस्में :

गेंदे के फूल की अच्छी फसल के लिए उन्नत किस्म के बीजों का होना भी अति महत्वपूर्ण हैं। जिससे ज्यादा और अच्छी फसल हो सके।अच्छी और टॉप किस्मों में येलो क्राउन, स्टार ऑफ इण्डिया, बोलेरो,रेड हैट, बटरवाल, गोल्डन बटर स्कॉच हैं। जिन्हे किसान केंद्र, मार्केट या Amazon से ऑनलाइन ऑर्डर कर मंगा सकते हैं।

आप गेंदा का फूल के उन्नत किस्मों को indiamart से भी ऑर्डर कर मंगा सकेंगे।

गेंदे के फूलो के खेत में जरूरी खाद उर्वरक और सिंचाई:

संभव हो तो गेंदे के फूलो की खेत में नीम, गोबर की खाद, कंपोस्ट या जैविक खाद का इस्तेमाल ज्यादा करें। इससे ज्यादा पैदावार के साथ जमीन की उर्वरा शक्ति भी संतुलित रहेगी। समयानुसार फसल की सिंचाई जरूरी है। ध्यान रहे खेत में पानी जमा न हो पाए।

गेंदे के फूल की तुड़ाई:

लगभग चालीस दिनों में फूल आने शुरू हो जाते हैं, उसके बाद आपको फूलो की नियमित तुड़ाई जरूरी है। क्योंकि आप नियमित तुड़ाई नही करेंगे तो पौधों के जरूरी विकाश और फूलों के उत्पादन पर भी फर्क पड़ जायेगा। फूलों की तुड़ाई केवल सुबह या शाम ही करें। दिन में फूलों की तुड़ाई नही की जाती।

गेंदे की फूल की बिक्री और सप्लाई:

सबसे महत्वपूर्ण कार्य गेंदे के फूलो की तुड़ाई उसके बाद उसकी सप्लाई ही है, आप फूलों को प्रत्येक दिन मंडी भेजकर थोक में बेच सकते हैं। या नजदीकी फूलो की दुकान के साथ बात करके भी फूलों की नियमित सप्लाई दे सकते है।

और ऐसे भी मंदिरों पर फूल बेचने वाले एक गेंदे के फूल की माला की कीमत 50 रुपए तक लेते है, और फूल की खपत भी इनके यहां ज्यादा होती है, अगर इनसे संपर्क बना लें तो आपको अलग से आमदनी होनी शुरू हो जायेगी।

किसी भी आयुर्वेदिक या सौंदर्य प्रसाधन बनाने वाली कंपनी, या अगरबत्ती बनाने वाली कंपनी आप से खुद ही खरीद कर ले जा सकती है। आपको सिर्फ उनसे बात करके अपने गेंदे के फूल की खेती में चार चांद लगाने हैं।

आपको ये लेख कैसा लगा, कमेंट करके जरूर बताइएगा।

 

ये भी पढ़ें

Business Ideas | बिना पैसे के आप अपना भविष्य उज्ज्वल कैसे बनाए | Success without Investment

 

2 thoughts on “गेंदे के फूल की खेती से साल के 15 लाख कमाएं | Successfull Marigold Flower Farming From Village”

Leave a Comment