थायराइड क्यों होता है | थायराइड के लक्षण, कारण और उपचार ( symptom of Thyroid in Hindi)


थायराइड क्या है, थायराइड के लक्षण, थायराइड क्यों होता है, थायराइड के प्रकार, थाइरोइड नार्मल रेंज चार्ट, थाइरोइड बीमारी के नुकसान, ( What is thyroid In Hindi, Symptom of thyroid in Hindi, thyroid gland, Thyroid symptoms in females, thyroid diseases, thyroid profile test,
)

आज कल की भागती हुई हमारी जिंदगी में हमें अपने स्वास्थ्य का भी ख्याल रखने का समय नहीं मिल रहा है, क्योंकि अनेक प्रकार की जिम्मेदारियों का बोझ कंधों पर है ऐसे में ना चाहते भी कहीं ना कहीं बीमारियों से घिरते चले जाते हैं और हमें पता तक नहीं चलता है ऐसी ही एक समस्या थायराइड की होती है जिसे हम समझ नहीं पाते हैं या फिर हम थायराइड बीमारी के नुकसान को हल्के में ले लेते हैं। आइये इस आर्टिकल में हम जानेंगे कि थायराइड क्या है थायराइड क्यों होता है और थायराइड का निदान क्या है?

थायराइड क्या है? (what is thyroid in hindi)

जब आपका वजन तेजी से बढ़ने लगे और चेहरे पर सूजन सी आने लगे तो हम इस भ्रम में पड़ जाते हैं कि हम थोड़े हृस्ट-पुष्ट हो रहे हैं या फिर हमारा वजन बढ़ रहा है। इसके ठीक विपरीत जब हमारा शरीर का वजन तेजी से नीचे गिरने लगे, आलस आने लगे और बाल झड़ने लगे तो समझ लीजिए की थायराइड की समस्या शुरू हो गयी है। शरीर में किसी भी प्रकार की अनावश्यक और अचानक कोई प्रतिक्रिया होने लगे जैसे एलर्जी या शरीर की किसी हिस्से में अचानक दर्द का होना भी थायराइड होने का संकेत हो सकता है।

Thyroid test

थायराइड क्यों होता है?

हमारे गले के बीच में एक (Thyroid Gland) थाइराइड ग्रंथि होती है जिसका आकार तितली के जैसा होता है, ये ग्रंथि T3 और T4 नामक हार्मोन स्रावित करती है जो हमारे शरीर में अनेक प्रणालियों के नियंत्रित सञ्चालन के लिए अति आवश्यक होता है। जैसे  कैलोरी की खपत को संतुलित रखने के साथ-साथ रक्तचाप को नियंत्रित रखना भी होता है। जब यह थायराइड ग्रंथि असंतुलित होकर T3 और T4 को संतुलित रूप से स्रावित नहीं कर पाती है जिसकी वजह से TSH हार्मोन घटने या बढ़ने लगता है, जिससे हमारे शरीर में थायराइड की कई समस्याएं आने लगती है। ALSO READ: जामुन के फायदे और नुकसान | JAMUN SIRKA BENEFITS, जामुन के 10 फायदे

थायराइड के प्रकार

थायराइड ग्रंथि से T3 और T4 नामक रसायन का स्राव कम या ज्यादा होने की स्थितियों को दो नामो से वर्गीकृत किया गया है जिसे हम दो नामों से जानते हैं।

  • Hyperthyrodism ( थायराइड ग्रंथि का ज्यादा सक्रिय होना )
  • Hypothyrodism ( थायराइड ग्रंथि की सक्रियता का कम होना)

थायराइड का शुरूआती लक्षण क्या है? THYROID SYMPTOMES IN HINDI

थायराइड के लक्षण शुरुआत में लोगों को पता ही नहीं चलता, लगता है कि यह कोई सामान्य समस्या हैं ठीक हो जाएगी। लेकिन वास्तव में समझ नहीं पाते कि यह जो हमें दिक्कतें आ रही हैं वह थायराइड की वजह से हो रही है। यह लक्षणों पर निर्भर करता है कि हमें किस प्रकार के थायराइड की समस्या है या हो सकती है।

ये एक ऑटो इम्यून बीमारी है, जो मुख्यतः महिलाओं में ज्यादा देखने को मिलती है। इसके कारणों में आयोडीन की कमी का होना भी हो सकता है, ये वंशानुगत होने के साथ साथ एंटी थाइरोइड दवाये खाने और रेडिएशन की वजह से भी हो सकता है।

HYPERTHYRODISM-

इसमें थायराइड ग्रंथि की अति सक्रियता की वजह से T3 और T4 का अधिक मात्रा में और TSH हार्मोन का स्राव कम होने लगता है जिससे हमारे शरीर में अलग-अलग तरह की समस्याएं दिखनी शुरू हो जाती हैं। महिलाओं में ऐसी समस्याएं पुरुषों के मुकाबले ज्यादा होती हैं।

  • घबराहट
  • भूख का ज्यादा लगना
  • अधिक पसीना आना
  • चिड़चिड़ापन
  • हाथ और पैरों का कांपना
  • नींद ना आना
  • हृदय गति का तेज हो जाना
  • बालों का पतला होना और झड़ना
  • मेटाबोलिज्म (हमारे भोजन को एनर्जी में बदलना) का अनियंत्रित होना।
  • ग्रोथ हार्मोन का अनियंत्रण होना।
  • शरीर के तापमान का नियंत्रण
  • वजन घटना

ALSO READ: कच्चा चना खाने के फायदे | BENEFITS OF SOAKED GRAM | आपके शरीर को देगा ताकत और तंदुरुस्ती

HYPOTYRODISM-

थायराइड ग्रंथि से T3 T4 नामक रसायन का स्राव कम होने और TSH का ज्यादा होना हाइपोथायरायडिज्म कहलाता है। जिसमें निम्न लक्षण दिखने लगते हैं।

  • हृदय गति का धीमा होना
  • नाखूनों का पतला होना
  • थकान महसूस करना
  • अवसाद और तनाव
  • पसीने में कमी
  • त्वचा में सूखापन के साथ खुजली होना
  • बार-बार भूलना
  • चेहरे के आसपास आंखों में सूजन होना
  • रक्त में कोलेस्ट्रॉल का बढ़ जाना
  • महिलाओं के मासिक धर्म में अनियमितता होना।
  • वजन बढ़ता है।
  • ठण्ड ज्यादा लगती है।

थायराइड टेस्ट (Thyroid test)

अब प्रश्न ये आता है कि हम कैसे जानेंगे की हमें किस प्रकार के थायराइड की समस्या है? तो इसके लिए दो प्रकार के टेस्ट होते है-

  • Thyroid profile test
  • Thyroid functinal test

ये ब्लड टेस्ट होता है जो फास्टिंग (बिना भोजन किये) और दूसरा without fasting(भोजन करने के बाद) होता है जिसमे मुख्यतः tSH हार्मोन की रेंज का पता लगाया जाता है कि मौजूदा समय में tSH कितना है। मेडिकल साइंस के अनुसार इसका स्तर निम्न लिखित होना चाहिए।

  • BLOOD TEST (FASTING & WITHOUT FASTING)
  • TSH LEVEL- ०.27 TO 4.20
  • 0.35 TO 5.50ulU/mL

थायराइड क्यों होता है?

थाइराइड होने के मुख्य जिम्मेदार हम स्वयं ही होते है, जिसके कुछ प्रमुख कारण है जो निम्नलिखित हैं-

  1. UNHEALTHY FOODS- आज के समय में लोग स्वयं और बच्चों को बाजार का जंक फ़ूड जैसे पिज़्ज़ा,बर्गर, मोमोज और पाम आयल में बने हुए व्यंजनों को चाव से खाते और खिलाते हैं।
  2. UNHEALTHY LIFESTYLE- देर से सोने और सुबह देर से जागने के साथ शारीरिक श्रम का आभाव और योग नहीं करना भी है।
  3. ज्यादा मात्रा में अलोपैथी दवाओं का इस्तेमाल करना।

थायराइड बीमारी: थायराइड की गोली

एलॉपथी डॉक्टर के अनुसार मेडिकल साइंस में थायराइड का इलाज संभव नहीं है वो केवल उसे मैनेज कर सकते हैं, जिसके लिए एक एलोपैथिक डॉक्टर मरीज को LEVOTHYROXIME नाम की दवा देते है जो एक स्वयं सप्लीमेंट होता है जो T3 और T4 की कमी को पूरा करता है। जिसके ज्यादा या लगातार इस्तेमाल से आप के शरीर में घेंघा, BP, SUGER जैसी बीमारियां उत्पन्न होने लगती हैं। एलॉपथी में थायराइड का इलाज संभव नहीं है जैसा की खुद डॉक्टर भी कहते हैं – आपको जीवन भर इसकी दवा खानी ही पड़ेगी।

थाइराइड का इलाज

थायराइड की बीमारी जो एक ऑटो इम्यून बीमारी है जिसमे B-12 की कमी होने लगती है, अगर आपका थाइरॉइड ज्यादा बढ़ा या ज्यादा घटा है तो शुरूआती दिनो के लिए एलोपैथिक दवाओं और डॉक्टर का सहारा ले सकते हैं लेकिन हमेशा के लिए इस बीमारी को समाप्त करना है तो इसका सम्पूर्ण निदान आयुर्वेदिक और होमिओपॅथी में संभव है। इसके अलावा आप किसी विशेषज्ञ नुट्रिसिअन से DIP DIET चार्ट लेकर भी इसे सही कर सकते हैं। सफल नूट्रिशियन डॉ विस्वरूप राय चौधरी के DIP DIET से आप THYROID के अलावा कई बिमारिओं को ठीक कर सकते हैं।

थायराइड का रामबाण इलाज- इसके अलावा आप चाहें तो 2 चम्मच निम्बू का रस और 2 चम्मच शहद को मिलाकर खाली पेट प्रतिदिन सुबह लेना होगा, इस प्रयोग को करने के बाद आप इस बीमारी को २-३ महीने में ठीक कर सकते हैं।

आपको “थाइरोइड क्यों होता है | थाइरोइड के लक्षण, कारण और उपचार ( symptom of Thyroid in Hindi)” लेख कैसा लगा, अगर आपको ये जानकारी अच्छी लगी हो तो आप इसे अपने परिवार के सदस्यों के अलावा दोस्तों के साथ भी साँझा कर सकते हैं जिससे जन मानस का उपकार हो,

ALSO READ:

FAQ –

Q – थायराइड रोग किस किसकी कमी से होता है?

ANS – थाइरॉयड ग्रंथि से स्रावित होने वाले T3 और T4 हार्मोन की कमी से होता है।

Q – थायराइड कितना होना चाहिए?

ANS- हमारे शरीर में TSH की मात्रा (थाइरोइड नार्मल रेंज चार्ट)- TSH LEVEL- ०.27 TO 4.20 और
0.35 TO 5.50ulU/mL तक होनी चाहिए।

Q – थायराइड होने का मुख्य कारण क्या है?

ANS – हमारा रहन सहन, खान पान और अनियमित दिनचर्या के साथ शारीरिक श्रम का अभाव होते जाना मुख्य करक हैं।

Q – थायराइड का शुरूआती लक्षण क्या है?

ANS – इस बीमारी के शुरूआती लक्षणों में नींद कम लगना , भूख का कम या ज्यादा लगना, बाल झड़ना, थकान महसूस होना, ह्रदय गति का कम या तेजी के साथ चलना, महिलाओं में माहवारी का अनियंत्रित होना इसके मुख्य लक्षण हैं।

Leave a Comment