जामुन के फायदे और नुकसान | Jamun Sirka Benefits, जामुन के 10 फायदे

जामुन के फायदे और नुकसान (जामुन का फल, जामुन का महत्व, जामुन के पत्तों का लाभ, जामुन किस रोग की दवा है, जामुन सिरका के फायदे)

जामुन फल को अंग्रेजी भाषा में ब्लैकबेरी कहते हैं, ये जंगल गर्मी और बरसात के मौसम में आता है जो दिखने में काला और नीले रंग का मिश्रण सा प्रतीत होता है। आयुर्वेद के अनुसार जामुन में बहुत से औषधीय गुण विद्यमान होते हैं। आइए जानते हैं जामुन के फायदे और नुकसान –

जामुन के फायदे और नुकसान
जामुन

जामुन का फल डायबिटीज यानी शुगर की बीमारी को नियंत्रित रखने में बहुत कारगर साबित होता है। जामुन के फल के साथ-साथ इसके पत्ते और छाल भी बड़े काम की चीजें हैं। अगर किसी को कब्ज की समस्या हो तो वह जामुन का सेवन करें तो उसकी कब्ज की समस्या भी दूर हो जाती है। किडनी स्टोन में जामुन का सेवन बहुत ही लाभप्रद होता है।

ALSO READ : Amazon Pay ICICI Bank Credit card कैसे बनवाएं पूरी जानकारी!

जामुन के बारे में पूरी जानकारी

Contents

जामुन का पेड़ लंबा और 30 से 35 फीट तक ऊंचा हो सकता है। इसकी औसत आयु 50 से 60 साल के बीच में होती है लेकिन अक्सर देखा गया है कि जामुन के पेड़ लगभग 100 साल के आसपास तक भी जीवित रहते हैं। चार-पांच साल की आयु हो जाने के बाद फल देना शुरू कर देता है।

जामुन के पत्ते के बारे में जानकारी

जामुन के पत्ते दिखने में आम और मौलश्री के पत्ते की तरह होते हैं यह लगभग 12 इंच लंबे और 4 से 5 इंच चौड़े होते हैं। जामुन की छाल भूरे रंग की होती है। इसकी पत्तियों को जानवर भी बड़े चाव से खाते हैं। इसकी पत्तियों में कई औषधीय गुण विद्यमान होते हैं।

जामुन के फायदे ( Black Plum Benefits In Hindi)

जामुन में विद्यमान औषधीय गुण और उसके फायदे:

1 – पिंपल्स की समस्या में रामबाण:


आजकल नवयुवक और युवतियों में पिंपल्स की समस्या होना एक आम बीमारी सी हो गई है, जिसको जामुन की छाल या पत्तों के रस को इन पिंपल्स पर लगाने से काफी हद तक आराम मिलता है।

2- – आंखों के लिए जामुन के फायदे

आजकल बड़े या बच्चों में मोबाइल की स्क्रीन के सामने ज्यादा रहने से आंखों में कई तरह की दिक्कतें आ जाती हैं, जीसके लिए हमें आई ड्रॉप लेना पड़ता है जो कुछ हद तक नुकसानदेय भी होता है।
ऐसे में जामुन की 15 से 25 पतियों को 500 मिलीलीटर पानी में अच्छी तरह से उबालने के बाद बचे हुए एक चौथाई पानी को ठंडा करें और फिर उसको छानकर अपनी आंखों को धोएं जिससे लाभ मिलेगा।

3- खून को साफ करें

जामुन की छाल आपके लिए ब्लड प्यूरीफायर का भी काम करती है जो आपके खून को अंदर से स्वच्छ रखने के साथ-साथ बाहरी त्वचा का भी ध्यान रखती है। इसकी छाल को उबालकर और पानी छानकर पीने से रक्त साफ रहता है।

4- मुंह के छालों में जामुन के पत्तों का फायदा

अक्सर अक्सर खानपान की गड़बड़ियों के चलते पेट में भोजन अच्छी तरह से नहीं पच पाता है जिसकी वजह से मुंह के अंदर छाले उभर आते हैं। इन छालों को सही करने में जामुन के पत्तों का रस लाभप्रद होता है। आप चाहे तो इसका चूर्ण किसी भी आयुर्वेदिक दवा की दुकान पर मिल जाएगा जिसको आप शहद के साथ सेवन कर सकते हैं। इसे भी पढ़ें : OLX से महीने के 15000 कमाएं | 6 स्टेप में जाने, ओएलएक्स से पैसे कैसे कमाए,

5 – दांत दर्द में जामुन के फायदे

दातों का दर्द एक समस्या बन जाती है लेकिन इसको हम जामुन के पत्तों को जलाकर उसकी राख को दांतों और मसूड़ों पर लगाने से दर्द में आराम मिलता है और मसूड़े मजबूत होते हैं। इसके अलावा जामुन के फलों का रस से आप कुल्ला करें तो पायरिया ठीक हो सकता है।

6 – कान के रोग में जामुन के फायदे

कानों में कभी-कभी पानी या कुछ चले जाने से इंफेक्शन हो जाता है और पस निकलने लगता है, ऐसे में जामुन की गुठली को पीसकर शहद मिला लें और उसको एक से दो बूंद कान में डालें जिससे कान का बहना और कान का दर्द भी ठीक हो जाता है।

7 – पेट की समस्याओं में जामुन के फायदे

अगर आपके पेट में कब्ज एसिडिटी की समस्या हो तो आप जामुन का फल का सेवन करें। इसके अलावा जामुन की छाल का रस निकालकर उसमें गाय का दूध मिला लें और पिए जिससे आपकी कब्ज जैसी समस्याओं का निदान हो जाता है।

8 – किडनी की पथरी में लाभप्रद जामुन

अगर किसी को किडनी में स्टोन की समस्या हुई हो तो उसके लिए जामुन का रामबाण साबित हो सकता है। जामुन के फल को खाने से पथरी गल कर निकल जाती है। इसके साथ ही आप जामुन के 10ml रस में थोड़ा सेंधा नमक मिलाकर पीना शुरू कर दे। ऐसा करने से स्टोन किडनी पूरी तरीके से बाहर आ जाती है।

9 – डायबिटीज यानी शुगर की बीमारी में जामुन लाभप्रद

जामुन रक्त में शुगर की मात्रा को नियंत्रित करता है इसके अलावा मरीज को बार-बार लगने वाली प्यास और पेशाब को भी नियंत्रित रखता है। जामुन में पोटेशियम की पर्याप्त मात्रा मौजूद होती है जो किसी भी व्यक्ति के हाई ब्लड प्रेशर या हार्ड अटैक जैसी घातक बीमारियों से बचाने में मददगार होता है। इसे भी पढ़ें : करौली सरकार: जहां असंभव भी संभव हो जाता है।

इसके अलावा जामुन में कई प्रकार के पोषक तत्व जैसे कैल्शियम आयरन और विटामिन भी प्रचुर मात्रा में मौजूद होते हैं जिससे हमारे शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है।

10 – बवासीर पाइल्स में भी फायदेमंद जामुन

अगर पाइल्स या बवासीर की समस्या है तो जामुन के फूलों के रस में थोड़ी सी शक्कर मिला लें इसे दिन भर तीन से चार बार पीने से पाइल्स में बहने वाला खून बंद हो जाता है। 10 ग्राम जामुन के पत्तों को 250 मिलीलीटर जूस के रूप में अच्छी तरह से मिलाकर पीने से पेट की समस्या दूर हो सकती है। इसे लगातार 7 दिनों तक 3 बार पीना जरूरी है।

जामुन के नुकसान

जामुन का फल ज्यादा मात्रा में खाने से आपके स्वास्थ्य पर प्रतिकूल असर पड़ सकता है, क्योंकि ये पचने में ज्यादा समय लेता है। इसका ज्यादा सेवन आपके फेफड़े को भी संक्रमित कर सकता है और बुखार भी ला सकता हैं।

जामुन का फल संबंधित ध्यान देने वाली बातें

  • जामुन को संयमित मात्रा में ही खाना चाहिए।
  • भूलकर भी खाली पेट इस फल को ग्रहण न करे।
  • जामुन का फल खाने के बाद दूध का सेवन करना वर्जित है।

जामुन के सिरके का फायदा

जामुन का फल मुख्यतः गर्मी और बरसात तक ही मिलता है, लेकिन अगर इसके फल के रस से सिरका बनाकर रख लिया जाए तो इसका सेवन पूरे वर्ष कर सकते हैं। आइए जामुन के सिरके का फायदा जानते हैं –

  • पुराने कब्ज की समस्या को खत्म करने में सहायक है।
  • जामुन का सिरका डायबिटीज के रोगियों के लिए राम बाण है।
  • उल्टी दस्त में भी अच्छा असरकारक है।
  • किडनी की पथरी में बहुत लाभप्रद है।

ALSO READ :

जामुन का सिरका बनाने की सरल विधि

जामुन के फलों को शीशे के जार या मिट्टी के बर्तन में नमक मिलाकर धूप में कई दिनों तक रखने से सिरका तैयार किया जाता है। जिसे छान कर किसी शीशे के बर्तन में रखा जा सकता है और जरूरत के अनुसार इसका सेवन किया जा सकता है।

आज कल सिरका बनाना सबके लिए संभव नहीं है, ऐसे में आप किसी आयुर्वेदिक दवा की दुकान से जामुन का सिरका खरीद सकते हैं।

आपको ये आर्टिकल “जामुन के फायदे और नुकसान | Jamun Sirka Benefits” कैसा लगा? कमेंट करके जरूर बताएं साथ ही अपने परिवार के सदस्यों और मित्रों के बीच इसे शेयर जरुर करें जिससे ऐसी जानकारी अनेक लोगों तक पहुंचे।

FAQ-

Q- जामुन किस रोग की दवा है?

Ans.- जामुन वैसे तो अनेक व्याधियों में लाभप्रद है लेकिन आम जन मानस में ये डायबिटीज को नियंत्रित करने के काम में आने के कारण प्रसिद्ध है।

Q- जामुन में कौन सा विटामिन पाया जाता है?

Ans.- जामुन में कैल्शियम, आयरन, पोटेशियम के अलावा कई विटामिन भी पाए जाते हैं।

Q- जामुन का सिरका कैसे लाभ देता है?

Ans.- जामुन का सिरका डायबिटीज को नियंत्रित करने के अलावा भोजन पाचक, कृमि नाशक, शीतल और मूत्र को साफ रखता है।

Q- जामुन की तासीर क्या होती है?

Ans – जामुन की तासीर ठंडी होती है, भले ही ये फल गर्मी के मौसम में ही मिलता है। रात में या ठंड के मौसम में इसका सेवन नहीं करना चाहिए।

Leave a Comment