कालीचरण महाराज कौन हैं – जीवन परिचय | Kalicharan Maharaj Biography in Hindi

(कालीचरण महाराज कौन हैं, महात्मा गांधी को गाली देने वाले कालीचरण महाराज कौन हैं?, Kalicharan maharaj history in hindi, अभिजीत सराग से कालीचरण महाराज तक की कहानी, kalicharan maharaj wikipidea in hindi)

Kalicharan Maharaj: सोशल मीडिया पर चल रही एक वीडियो जिसमे महात्मा गांधी के बारे में अपशब्द और नाथूराम गोडसे के बारे में अच्छी बातें बोली गई है। जो एक संत द्वारा अपने संबोधन कही गई है। उनके द्वारा कही बात ” इस्लाम का लक्ष्य राजनीति के माध्यम से राष्ट्र पर कब्जा करना है। हमारी आंखों के सामने उन्होंने 1947 में कब्जा कर लिया था। उन्होंने पहले ईरान, इराक और अफगानिस्तान पर कब्जा कर लिया था। उन्होंने राजनीति के माध्यम से बांग्लादेश और पाकिस्तान पर कब्जा कर लिया था मैं नाथूराम गोडसे को नमन करता हूं कि उन्होंने उस …..को मार डाला।”

KALICHARAN MAHARAJ कालीचरण महाराज
KALICHARAN MAHARAJ

कालीचरण महाराज का जीवन परिचय

नाम (NAME)कालीचरण महाराज
वास्तविक नाम (REAL NAME)अभिजीत धनंजय सारग
जन्मदिन (BIRTHDAY)1973
जन्मस्थान (BIRTH PLACE)शिवाजी नगर, अकोला महाराष्ट्र
आयु (AGE)49 वर्ष (2022)
शिक्षा दीक्षा (EDUCATION)कक्षा आठ
नागरिकता (CITIZENSHIP)भारतीय
गृह नगर (HOME TOWN)अकोला
धर्म/संप्रदाय (RELIGION)सनातन, हिंदू
जाति (CASTE)जाट
शारीरिक लंबाई5 फीट 8 इंच
बाल ( hair)काला
कार्य (PROFESSION)धार्मिक उपदेशक
वैवाहिक स्थिति (MARITAL STATUS)अविवाहित

इसी बात पर कई संगठनों और लोगों ने देश के अलग अलग राज्यों और जगहों पर शिकायत दर्ज कराई थी। जिसके बात से ही कालीचरण महाराज पर कार्यवाही का अंदेशा बढ़ने लगा था, आखिरकार छत्तीसगढ़ की रायपुर पुलिस ने उन्हें 30 दिसंबर 2021 को खजुराहो से गिरफ्तार कर लिया।

कालीचरण महाराज ने छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में आयोजित धर्म संसद में अपना विवादास्पद संबोधन दिया था। तभी से कालीचरण महाराज चर्चा में आम हो गए। आइए जानते है कि कालीचरण महाराज कौन हैं ?

कालीचरण महाराज का शुरुआती जीवन (Kalicharan Maharaj life)

कालीचरण महाराज का जन्म 1973 में हुआ था। इनका जन्म महाराष्ट्र के अकोला जनपद में हुआ था। अकोला जनपद मध्य प्रदेश के नजदीकी विदर्भ क्षेत्र में पड़ता है। कालीचरण महाराज अकोला के शिवाजी नगर के निवासी हैं। इनका वास्तविक नाम अभिजीत धनंजय सराग है। कालीचरण महाराज के पिता का नाम धनंजयराव और माता का नाम सुनीता देवी है जो एक सामान्य गृहिणी हैं।

कालीचरण महाराज का परिवार आर्थिक दृष्टि से मध्यम वर्गीय है। इनकी प्रारंभिक शिक्षा महज 8वीं तक हुई। पढ़ने में मन न लगने के इनके माता पिता ने इनकी मौसी के यहां इंदौर भेज दिया। और इनके पिता की अकोला में ही एक मेडिकल स्टोर की दुकान हैं।

कालीचरण महाराज का अध्ययन काल (Kalicharan Maharaj Education)

कालीचरण महाराज ने कक्षा आठवीं की पढ़ाई करने के बाद पठन-पाठन छोड़ दिया था। ऐसा ऐसा कहा जाता है कि इनका मन पढ़ाई में नहीं लगा और इन्होंने स्कूल छोड़ने के बाद बचपन से ही अध्यात्म की तरफ अपने आपको जोड़ लिया।

कालीचरण महाराज बचपन से मराठी बोलते थे लेकिन इंदौर आने के बाद हिंदी बोलना सीख गए। इसी दौरान भय्यूजी महाराज का प्रभाव उन पर पड़ा और वह उनके आश्रम जाने लगे। यहां भय्यूजी महाराज से दीक्षा ली और यहीं से अभिजीत सराग को कालीचरण महाराज के नाम से जाना जाने लगा।

इसे भी पढ़े Bitcoin kya hai और इसे कैसे खरीदें बेचें?

कालीचरण महाराज की पत्नी (Kalicharan Maharaj Wife)

कालीचरण महाराज को अभी तक कम लोग ही जानते थे लेकिन जब से उन्होंने धर्म संसद में महात्मा गांधी पर अनैतिक शब्दों का इस्तेमाल करते हुए नाथूराम गोडसे की प्रशंसा की थी। इसी दौरान इंटरनेट पर कालीचरण महाराज का परिवार और उनकी व्यक्तिगत जीवन के बारे में लोगों ने खंगालना शुरू किया। लेकिन कालीचरण महाराज बचपन से ही ब्रम्हचर्य का पालन करते हैं और उन्होंने जीवन भर अविवाहित रहने का निश्चय किया था।

कालीचरण महाराज शिव तांडव स्त्रोत से चर्चा मे ((Kalicharan Maharaj Shiv Tandav)

कालीचरण महाराज शिव के भक्त हैं और मां काली के भी, लेकिन इनकी अनुयाई इनको काली पुत्र कहकर संबोधित करते हैं। कालीचरण महाराज ललाट पर सिंदूर का बड़ा टीका लगाते हैं और लाल वस्त्र धारण करते हैं, लेकिन खुद को संत कहा जाना उपयुक्त नहीं मानते। उनके अनुसार संत का फैशन से कोई लेना देना नहीं है लेकिन वो सुंदर वस्त्र धारण करते हैं और दाढ़ी भी बनाते हैं।

एक वीडियो में कालीचरण महाराज किसी शिव मंदिर में शिव तांडव स्त्रोत का पाठ करते हुए दिख रहे हैं जिसमें उन्होंने लाल रंग का वस्त्र धारण किया हुआ था। इस वीडियो को आम लोगों के साथ-साथ कई सेलिब्रिटी ने सोशल मीडिया पर शेयर किया था। इसी वीडियो से कालीचरण महाराज देशभर में मशहूर हो गए।

कालीचरण महाराज को क्यों कहा जाता है कालीपुत्र ? (Kalicharan Maharaj Unknown Facts)

कालीचरण महाराज ने बताया था कि – एक बार सड़क दुर्घटना में उनका एक पैर 90 डिग्री तक घूम गया था, जिससे उनके पैर की हड्डी टूट गई थी। इसी दौरान उनको माता काली ने दर्शन दिया और उनके आशीर्वाद से ही बिना ऑपरेशन कराए उनका पैर 100 प्रतिशत ठीक हो गया। इस घटना के बाद से कालीचरण महाराज मां काली के अनन्य भक्त हो गए और स्वयं को काली पुत्र मानने लगे।

कालीचरण महाराज और राजनीति (Kalicharan Maharaj Politics)

कालीचरण महाराज के बारे में यह बात काफी कम लोगों को ही मालूम होगी कि 2017 में कालीचरण महाराज अकोला जनपद के नगर निगम चुनाव में अपनी उम्मीदवारी पेश कर चुनाव भी लड़े थे। जिसमें वह विजयी नहीं हो पाए, हालांकि फिर उन्होंने कभी कोई चुनाव नहीं लड़ा।

कालीचरण महाराज संपत्ति (Kalicharan Maharaj Net Worth)

कालीचरण महाराज का जीवन सादगी भरा न होकर भव्य है जहां उनके आवास पर किसी बड़े पैसे वाले का घर सा आभास होता है। आधुनिक तरीके के साजो सामान हैं। वो सोने के आभूषण जैसे गले में चेन और हाथों की उंगलियों में रत्न जड़ित अनूठियां पहनते हैं।

कालीचरण महाराज के पास कई महंगी गाडियां भी है, उनके आय का मुख्य श्रोत धार्मिक उपदेश देने से ही है। इसके साथ वो समाज सेवा के कार्यों में भी भाग लेते हैं। वो लोगों की मदद भी करते रहते हैं। सूत्रों के अनुसार अभी तक उनके पास अनुमानित धन 5 से 6 करोड़ का हो सकता है।

कालीचरण महाराज की विशेष बातें

कालीचरण महाराज को जानवरों में कुत्तों और गायों से बहुत ज्यादा लगाव है वह प्रतिदिन कुत्तों और गायों को रोटी खिलाते हैं। उनके दिनचर्या की शुरुआत माता काली के पूजन और अर्चन से होता है और शाम के समय भी मां काली की संध्या पूजन करते हैं।

कालीचरण महाराज को विभिन्न प्रकार के धार्मिक अनुष्ठानों में बुलाया जाता रहा है जहां पर वह संबोधन भी देते हैं। इसी कड़ी में छत्तीसगढ़ के रायपुर में आयोजित धर्म संसद में महात्मा गांधी के ऊपर बोलते हुए कुछ अनैतिक शब्द मुंह से निकल गए जिसकी वजह से रायपुर पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया है।

कालीचरण महाराज के चर्चा में आने का दूसरा प्रमुख कारण उनका हिंदुत्ववादी विचार धारा का समर्थन भी है। कालीचरण महाराज जी नाथूराम गोडसे के प्रबल समर्थक हैं। जिसकी वजह से उन को निशाना बनाया गया।

कालीचरण महाराज सोशल मीडिया पर जैसे इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर भी है। जहां पर वह अपना उपदेश अपलोड करते हैं और उनके अनुयाई उनके उपदेशों का अनुमोदन करते है।

FAQ

Q.-कालीचरण महाराज कौन है?

Ans. कालीचरण महाराज मां काली के परम भक्त और हिंदुत्व विचारधारा के समर्थक हैं।

Q.- कालीचरण महाराज की पत्नी कौन है?

Ans. कालीचरण महाराज बचपन से ब्रह्मचर्य का पालन करते हुए अविवाहित हैं।

Q.- कालीचरण महाराज चर्चा में क्यों और कब आए?

Ans. छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में आयोजित धर्म संसद में महात्मा गांधी पर विवादित बयान और नाथूराम गोडसे की प्रशंसा करना वजह रहा।

Q.- कालीचरण महाराज कहां पैदा हुए थे?

Ans. कालीचरण महाराज का जन्म महाराष्ट्र के अकोला जनपद में 1973 में हुआ था।

इसे भी पढ़े।

Leave a Comment